तुम नहीं होते हो तो बहुत खलता है प्यार कितना है तुमसे पता चलता है

तुम्हें दिल में हजार बार याद करता हूं, मैं  तुम्हें तुमसे ज्यादा प्यार करता हूं

सीधा सा सवाल था मेरा इश्क़ क्या है तुम्हारे लिए उसने तुम कहकर बोलती बंद कर दी मेरी

छुपा लो मुझे अपने सासों के दरमियाँ कोई पूछे तो कह देना जिंदगी है मेरी

तुम्हारा‬ तो गुस्सा‬ भी इतना प्यारा हे के दिल करता हे दिनभर तुम्हे तंग करते रहे

तेरी मोहब्बत मे एक बात सीखी है के तेरे  साथ के बिना ये दुनिया फीकी है

कहने को तो मेरा दिल एक है लेकिन  जिसको दिल दिया है वो हजारो में एक है

तुम पूछ लेना सुबह से न यकीन हो तो शाम से ये दिल धड़कता है तेरे ही नाम से

मौसम वही, सर्दी वही, वही दिलकश दिसंबर है.. चाहे  वही, अदरक वही, वही दिल में बवंडर है

मिल नहीं पाता तो क्या हुआ, मोहब्बत तो  तुमसे फिर भी बेहिसाब करता हूं